×

Join Our WhatsApp & Telegram Groups

Get closer to your dream job by subscribing for daily vacancy news.

Join Whatsapp Join Telegram

Rashtra Sangh Ka Gathan Kyon Kiya Gaya राष्ट्र संघ का गठन: कारण और उद्देश्य

Rashtra Sangh Ka Gathan Kyon Kiya Gaya? राष्ट्र संघ का गठन: कारण और उद्देश्य

Rashtra Sangh Ka Gathan Kyon Kiya Gaya:- राष्ट्र संघ का गठन: एक ऐतिहासिक पहल:- राष्ट्र संघ का गठन प्रथम विश्व युद्ध के बाद एक महत्वपूर्ण अंतर्राष्ट्रीय पहल थी, जिसका उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय विवाद समाधान के लिए एक मंच प्रदान करना था। यह संगठन द्विपक्षीय युद्धविराम की एक श्रृंखला के माध्यम से प्रथम विश्व युद्ध के समापन के बाद स्थापित हुआ। 1919 में पेरिस में, विजयी देशों ने व्यापक शांति समझौते पर चर्चा की और वर्साय की संधि पर हस्ताक्षर किए, जिसने औपचारिक रूप से सहयोगी और संबद्ध शक्तियों के साथ जर्मनी के युद्ध को समाप्त किया।

राष्ट्र संघ में शामिल होने के लिए, सभी राज्यों को विशिष्ट मानकों को पूरा करना आवश्यक था और दो-तिहाई बहुमत के समर्थन की आवश्यकता थी। जनवरी 1920 में, राष्ट्र संघ में 42 सदस्य थे।

Rashtra Sangh Ka Gathan Kyon Kiya Gaya राष्ट्र संघ के उद्देश्य

राष्ट्र संघ के प्रमुख उद्देश्यों में सामूहिक सुरक्षा के माध्यम से निरस्त्रीकरण, युद्ध की रोकथाम सुनिश्चित करना और बातचीत और कूटनीति के माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय संघर्ष का समाधान करना शामिल था। इसका मुख्य फोकस वैश्विक भलाई और शांति की स्थापना था।

Rashtra Sangh Ka Gathan Kyon Kiya Gaya राष्ट्र संघ का गठन क्यों किया गया?

राष्ट्र संघ का गठन प्रथम विश्व युद्ध के बाद एक ऐतिहासिक पहल थी, जिसका उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय विवादों को शांतिपूर्ण ढंग से हल करना और भविष्य में युद्धों को रोकना था। प्रथम विश्व युद्ध की भयावहता और विनाश के बाद, विश्व के प्रमुख देशों ने यह महसूस किया कि स्थायी शांति के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय संगठन का गठन आवश्यक है।

प्रथम विश्व युद्ध की पृष्ठभूमि

प्रथम विश्व युद्ध, जिसे ‘महायुद्ध’ भी कहा जाता है, 1914 से 1918 तक चला और इसमें लाखों लोगों की जान गई। इस युद्ध के अंत में, विजयी देशों ने पेरिस में एक शांति सम्मेलन आयोजित किया। इस सम्मेलन का मुख्य उद्देश्य यह था कि भविष्य में इस प्रकार के विनाशकारी युद्धों को कैसे रोका जा सके।

वर्साय की संधि और राष्ट्र संघ का गठन

1919 में, पेरिस शांति सम्मेलन के दौरान, विजयी देशों ने वर्साय की संधि पर हस्ताक्षर किए। इस संधि में राष्ट्र संघ की स्थापना का प्रस्ताव रखा गया। राष्ट्र संघ का उद्देश्य था:

  1. सामूहिक सुरक्षा: सदस्य देशों को एक-दूसरे की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा करने के लिए बाध्य करना।
  2. निरस्त्रीकरण: सदस्य देशों के बीच हथियारों की होड़ को रोकना और निरस्त्रीकरण को बढ़ावा देना।
  3. अंतर्राष्ट्रीय विवादों का समाधान: विवादों को शांतिपूर्ण ढंग से सुलझाने के लिए एक मंच प्रदान करना।
  4. मानवाधिकारों की रक्षा: युद्ध के दौरान और बाद में मानवाधिकारों की रक्षा करना और शरणार्थियों की सहायता करना।

राष्ट्र संघ की संरचना

राष्ट्र संघ तीन प्रमुख अंगों से मिलकर बना था:

  1. सचिवालय: लीग का सचिवालय परिषद और विधानसभा के लिए एजेंडा तय करने के साथ-साथ बैठक की रिपोर्ट और अन्य नियमित कार्यों को प्रकाशित करने का प्रभारी था।
  2. परिषद: लीग काउंसिल को वैश्विक शांति को नुकसान पहुंचाने वाले किसी भी मुद्दे से निपटने का अधिकार दिया गया था। इसमें चार स्थायी सदस्य (यूनाइटेड किंगडम, फ्रांस, इटली और जापान) और चार गैर-स्थायी सदस्य शामिल थे।
  3. सभा: लीग असेंबली में प्रत्येक सदस्य का प्रतिनिधित्व किया गया था और उसका एक मत था। यह साल में एक बार सितंबर में बुलाई जाती थी।

अन्य निकाय

राष्ट्र संघ ने अंतरराष्ट्रीय न्याय के स्थायी न्यायालय के साथ-साथ कई अन्य संस्थानों और समितियों का प्रबंधन किया, जिनका उद्देश्य महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय मुद्दों का समाधान करना था। इनमें निरस्त्रीकरण आयोग, अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन, जनादेश आयोग, स्थायी केंद्रीय अफीम बोर्ड, शरणार्थी आयोग और दासता आयोग शामिल थे।

राष्ट्र संघ के सदस्य

राष्ट्र संघ की स्थापना 1920 में 42 राष्ट्रों द्वारा की गई थी। 1934 और 1935 में संघ के 58 सदस्य देश अपने चरम पर थे। सदस्य देशों में अधिकांश दक्षिण पूर्व एशिया, यूरोप और दक्षिण अमेरिका शामिल थे। संयुक्त राज्य अमेरिका राष्ट्र संघ में कभी शामिल नहीं हुआ क्योंकि सीनेट ने संघ के चार्टर की पुष्टि करने से इनकार कर दिया। राष्ट्र संघ के सदस्यों को अन्य सभी राष्ट्र-राज्यों की क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता की रक्षा करने के साथ-साथ राष्ट्रों द्वारा सामना की जाने वाली समस्याओं को हल करने के लिए सैन्य कार्रवाई के उपयोग या खतरे का विरोध करना था।

Rashtra Sangh Ka Gathan Kyon Kiya Gaya निष्कर्ष

राष्ट्र संघ का गठन एक ऐतिहासिक कदम था जिसका उद्देश्य वैश्विक शांति और सुरक्षा सुनिश्चित करना था। हालांकि यह संगठन अपने सभी लक्ष्यों को प्राप्त नहीं कर पाया, लेकिन इसने भविष्य में संयुक्त राष्ट्र जैसे अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के गठन के लिए एक आधारशिला रखी।

Leave a Comment